राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी ने केंद्रीय संचार मंत्री अनिल वैष्णव से की मुलाकात,चमोली जनपद के कर्णप्रयाग और गैरसैण विकासखंडों की मोबाइल कनेक्टिविटी की समस्या से कराया अवगत,केंद्रीय मंत्री ने 14 स्थानों की कनेक्टिविटी हेतु संबंधित अधिकारी को दिए निर्देशित।

443 views          

चमोली जिले के कर्णप्रयाग और गैरसैंण विकासखंडों की मोबाइल कनेक्टिविटी की समस्या को लेकर केंद्रीय संचार मंत्री अनिल वैष्णव से की मुलाकात। मुलाकात में उत्तराखंड से राज्यसभा सांसद और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी के साथ राष्ट्रीय मीडिया टीम के सदस्य सतीश लखेड़ा रहे साथ।सांसद बलूनी के अनुरोध पर केंद्रीय मंत्री ने दिए निर्देश कि शीघ्र बहाल हो संचार सुविधा ।

भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय मीडिया टीम के सदस्य सतीश लखेड़ा ने प्रेस को जारी विज्ञप्ति में कहा कि चमोली जनपद के कर्णप्रयाग और गैरसैण विकासखंडों की मोबाइल कनेक्टिविटी की समस्या को लेकर आज राज्यसभा सांसद एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी के नेतृत्व में केंद्रीय संचार मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव जी से भेंट की। सांसद बलूनी ने मंत्री को बताया कि कनेक्टिविटी ना होने से इन दुर्गम क्षेत्रों में जनता को परेशानी तो होती ही है साथ ही बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई बाधित होती है।

लखेड़ा ने कहा कि अनिल बलूनी ने मंत्री को कर्णप्रयाग विकासखंड के बगोली, चमोला, मैखुरा, मजखोला, कमेड़ा और सेरागढ़ क्षेत्रों तथा गैरसैंण विकासखंड के देवपुरी, राईकोट, कुनीगाड़ तल्ली, कुणखेत, बुखाली, चोरड़ा, पिंडवाली और कांसुवा क्षेत्रों की मोबाइल समस्या का ध्यान दिलाया।

केंद्रीय मंत्री अनिल वैष्णव ने कहां कि उनका मंत्रालय निरंतर मोबाइल कनेक्टिविटी के सुधार हेतु प्रयासरत है। उन्होंने उपरोक्त सभी 14 स्थानों की कनेक्टिविटी हेतु संबंधित अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा की बीएसएनएल सहित सभी निजी ऑपरेटर कंपनियां इन स्थानों का निरीक्षण कर संचार सुविधा बहाल करें।

लखेड़ा ने केंद्रीय मंत्री सहित सांसद  अनिल बलूनी का आभार प्रकट करते हुए कहा कि इन दुर्गम क्षेत्रों में संचार सुविधा बहाल होने से आम नागरिकों को व विद्यार्थियों को राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि गत दिनों अपने क्षेत्र भ्रमण के दौरान आम जनता द्वारा मोबाइल कनेक्टिविटी की समस्या की ओर ध्यान दिलाया गया और स्वयं भी कनेक्टिविटी ना होने की परेशानियों का सामना करना पड़ा।

About Author

           

You may have missed